MCQ Questions for Class 10 Hindi Sparsh Chapter 5 पर्वत प्रदेश में पावस

Share this:

To ensure that students are prepared according to the latest CBSE curriculum, MCQ Questions for Class 10 Hindi Sparsh Chapter 5 पर्वत प्रदेश में पावस are updated regularly. The students should attempt as many MCQ questions as possible to score high marks in the exams. They are especially useful when you are trying to learn a lot of information in a short amount of time.

Chapter 5 Class 10 Hindi Sparsh MCQ questions with answers can help you develop a positive mindset and enhance your skills. By taking the time to answer questions and reflect on your answers, you can improve your problem-solving ability and learn new information.

Chapter 5 पर्वत प्रदेश में पावस Class 10 Hindi Sparsh MCQ Questions

1. यहाँ किस ऋतु का वर्णन किया गया है?
(a) ग्रीष्म
(b) शीत
(c) वर्षा
(d) हेमंत
► (c) वर्षा

2. ‘मेखलाकार पर्वत अपार’ में पर्वत के किस भाग का वर्णन किया गया है?
(क) पर्वत की चोटियों का वर्णन किया गया है
(ख) पर्वत के ऊपरी भाग का वर्णन किया गया है
(ग) पर्वत की तलहटी का वर्णन किया गया है
(घ) पर्वत के विशाल ढालदार भाग का वर्णन किया गया है
► (घ) पर्वत के विशाल ढालदार भाग का वर्णन किया गया है

3. पर्वत किसमें अपना प्रतिबिंब देख रहा है?
(a) झरने में
(b) दर्पण में
(c) फूलों में
(d) तालाब में
► (d) तालाब में

4. पर्वत की आँखें किसे कहा गया है?
(a) पर्वत की चोटी को पर्वत की आँखें कहा गया है
(b) पर्वत पर उगे पौधों को पर्वत की आँखें कहा गया है
(c) पर्वत पर खिले हज़ारों फलों को पर्वत की आँखें कहा गया है
(d) पर्वत के पत्थरों को पर्वत की आँखें कहा गया है
► (c) पर्वत पर खिले हज़ारों फलों को पर्वत की आँखें कहा गया है

5. “पल-पल परिवर्तित प्रकृति-वेश’ से क्या तात्पर्य है?
(a) वर्षा ऋतु में पर्वत का सौंदर्य क्षण-क्षण में बदलता रहता है
(b) वर्षा ऋतु में नदी का सौंदर्य पल-पल बदल रहा है
(c) वर्षा ऋतु में फूल मुरझा गए थे
(d) इनमें से कोई नहीं
► (a) वर्षा ऋतु में पर्वत का सौंदर्य क्षण-क्षण में बदलता रहता है

6. पर्वत के चरणों में तालाब
(a) हरियाली के समान फैला हुआ है
(b) काँच के समान फैला हुआ है
(c) दर्पण के समान फैला हुआ है
(d) मोतियों के समान फैला हुआ है
► (c) दर्पण के समान फैला हुआ है

7. ‘अवलोक रहा है बार-बार , नीचे जल में महाकार’ से क्या तात्पर्य है?
(a) कवि नीचे जल में बार-बार देख रहा था
(b) परमात्मा नीचे जल में बार-बार देख रहा था
(c) पर्वत नीचे फैले जल में अपने विशाल आकार को निहार रहा था
(d) उपर्युक्त सभी
► (c) पर्वत नीचे फैले जल में अपने विशाल आकार को निहार रहा था

8. पहाड़ों की छाती पर झरने कैसे प्रतीत हो रहे हैं?
(a) वृक्षों के समान सुंदर प्रतीत हो रहे हैं
(b) विशाल नदियों के समान प्रतीत हो रहे हैं
(c) मोती की लड़ियों के समान सुंदर प्रतीत हो रहे हैं
(d) इनमें से कोई नहीं
► (c) मोती की लड़ियों के समान सुंदर प्रतीत हो रहे हैं

9. किसे ‘गिरि का गौरव गाने वाले’ कहा गया है?
(a) पर्वत पर खिलनेवाले पुष्पों को
(b) पर्वत पर खड़े वृक्षों को
(c) पर्वत की ऊँची-ऊँची चोटियों को
(d) पर्वत से झरनेवाले झरनों को
► (d) पर्वत से झरनेवाले झरनों को

10. ‘झरने के झर-झर स्वर’ में कवि ने क्या कल्पना की है?
(a) मानो ये झरने पर्वत की महानता का गुणगान कर रहे हैं
(b) मानो झरने तालियाँ बज रहे हों
(c) मानो ये झरने पर्वत को स्नान करा रहे हों
(d) इनमें से कोई नहीं
► (a) मानो ये झरने पर्वत की महानता का गुणगान कर रहे हैं

11. झरने क्या कर रहे हैं?
(a) बहुत ऊँचाई से गिर रहे हैं
(b) मोती की लड़ियाँ बना रहे हैं
(c) पर्वतों का यशगान कर रहे हैं
(d) दृश्य को सुंदर बना रहे हैं
► (c) पर्वतों का यशगान कर रहे हैं

12. ‘मद में नस-नस उत्तेजित कर’ से क्या तात्पर्य है?
(a) झरने मस्ती में उत्तेजित होकर गा रहे हों
(b) झरनों की नस-नस में मस्ती भरी है
(c) झरने ऊँची-ऊँची आवाज़ में पर्वत का गुणगान कर रहे हैं
(d) झरने के स्वर को सुनकर दर्शकों की नस-नस में उत्तेजना व मस्ती भर जाती है
► (d) झरने के स्वर को सुनकर दर्शकों की नस-नस में उत्तेजना व मस्ती भर जाती है

13. झरने किसके समान लग रहे हैं?
(a) उच्चाकांक्षाओं के समान
(b) गौरव के समान
(c) मोती की माला
(d) फूलों की लड़ियों के समान
► (c) मोती की माला

14. वृक्ष आकाश की ओर कैसे देख रहे हैं?
(a) एकटक, प्रसन्न, अटल रहकर
(b) प्रसन्न, अटल, चिंतित रहकर
(c) एकटक, अटल, चिंतित रहकर
(d) चिंतित, उत्साहित, एकटक रहकर
► (c) एकटक, अटल, चिंतित रहकर

15. पहाड़ों पर उगे वृक्ष कैसे लग रहे हैं?
(a) मन में उठने वाली उच्च आकांक्षाओं के समान
(b) मोती की लड़ियों के समान
(c) नदी में उठने वाली लहरों के समान
(d) उपर्युक्त सभी
► (a) मन में उठने वाली उच्च आकांक्षाओं के समान

16. ‘रव शेष रह गए हैं निर्झर’ का क्या अर्थ है?
(a) केवल झरना शेष रह गया है
(b) झरने ने आवाज करनी बंद कर दी है
(c) झरने दिखाई देने बंद हो गए; उनकी आवाज गूंजती शेष रह गई
(d) झरनों के अवशेष दिखाई देते हैं
► (c) झरने दिखाई देने बंद हो गए; उनकी आवाज गूंजती शेष रह गई

17. ‘उड़ गया अचानक लो भूधर’ पंक्ति का आशय है
(a) बादलों से ढक जाने पर पर्वत अदृश्य हो गए हैं
(b) बादलों के पंख लगाकर पर्वत वहाँ से उड़ गए हैं
(c) पर्वतीय प्रदेशों में जब अचानक घने बादल आ जाते हैं, तो सारा दृश्य अदृश्य हो जाता है
(d) उपर्युक्त सभी
► (c) पर्वतीय प्रदेशों में जब अचानक घने बादल आ जाते हैं, तो सारा दृश्य अदृश्य हो जाता है

18. ‘भू पर अंबर टूट पड़ने’ का क्या आशय है?
(a) आकाश धरती पर आ गिरा
(b) आकाश धरती पर टूट पड़ा
(c) तेज वर्षा होने लगी
(d) अत्यधिक शोर होने लगा
► (c) तेज वर्षा होने लगी

19. ‘धंसकर धरा में सभय शाल’ का आशय स्पष्ट कीजिए।
(a) शाल के वृक्ष अत्यधिक बारिश के कारण धरती में धंस गए
(b) शाल के वृक्ष टूट गए और धरती पर पड़े हैं।
(c) शाल के वृक्ष दिखाई नहीं देते क्योंकि आकाश में धूल छा गई है
(d) शाल के पेड़ बादलों के झुंड में धंसे ऐसे लगते हैं मानो भयभीत होकर धरा में धंस गए हों
► (d) शाल के पेड़ बादलों के झुंड में धंसे ऐसे लगते हैं मानो भयभीत होकर धरा में धंस गए हों

20. ‘इंद्र खेलता इंद्रजाल’ में इंद्रजाल किसे कहा है?
(a) वर्षा ऋतु में बदलते प्राकृतिक दृश्यों को इंद्रजाल कहा है
(b) इंद्र आपको जादू का खेल दिखा रहा है
(c) बादलों को कवि ने इंद्र कहा है
(d) इनमें से कोई नहीं
► (a) वर्षा ऋतु में बदलते प्राकृतिक दृश्यों को इंद्रजाल कहा है

Share this:

Leave a Reply

Your email address will not be published.