MCQ Questions for Class 10 Hindi Sparsh Chapter 6 मधुर-मधुर मेरे दीपक जल

Share this:

By taking the time to solve MCQ Questions for Class 10 Hindi Sparsh Chapter 6 मधुर-मधुर मेरे दीपक जल, students can improve their performance on exams and take their preparation to the next level. These questions can also be used to evaluate your current planning process to see if there are any areas that need improvement. MCQs can help you identify what you know and what you need to work on.

Chapter 6 Class 10 Hindi Sparsh MCQ Questions with answers are a type of question that some people find quite difficult to handle. These can be an effective assessment tool, as they can test a wide range of knowledge and skills. It is a good way to revise the concepts before the exams.

Chapter 6 मधुर-मधुर मेरे दीपक जल Class 10 Hindi Sparsh MCQ Questions

1. ‘मृदुल मोम-सा’ पंक्ति का क्या अर्थ है?
(a) मीठे मोम की तरह
(b) कोमल मोम की तरह
(c) पिघले मोम के समान
(d) जमे मोम की तरह
► (b) कोमल मोम की तरह

2. कवयित्री दीपक से किस तरह अपना सौरभ फैलाने के लिए कह रही है?
(a) प्रकाश बनकर
(b) सूर्य बनकर
(c) धूप बनकर
(d) वायु बनकर
► (c) धूप बनकर

3. कवयित्री किससे जलते रहने का आग्रह कर रही है?
(a) सूर्य से
(b) चंद्रमा से
(c) मार्गदर्शक दीपक से
(d) आस्था रूपी दीपक से
► (d) आस्था रूपी दीपक से

4. ‘दे प्रकाश का सिंधु अपरिमित’ का आशय है
(a) ज्ञान का अपार सागर लहरा दे
(b) आध्यात्मिक प्रेम का सागर छलका दे
(c) प्रकाश का विशाल सागर दे दे
(d) सिंधु को प्रकाश से भर दे
► (b) आध्यात्मिक प्रेम का सागर छलका दे

5. ‘तेरे जीवन का अणु गल-गल’ में ‘तेरे’ शब्द किसके लिए आया
(a) मोम की बाती रूपी काया
(b) प्रिय की प्रतीक्षा में प्रेयसी
(c) अहंकार का गलना
(d) उपर्युक्त सभी
► (d) उपर्युक्त सभी

6. दीपक के पुलक-पुलक जलने का क्या अर्थ है?
(a) प्रसन्न और रोमांचित होकर
(b) हँस-हँसकर
(c) उछल-उछलकर
(d) दुखी और पराजित होकर
► (a) प्रसन्न और रोमांचित होकर

7. कवयित्री ने तारों को स्नेहहीन क्यों कहा है?
(a) क्योंकि वे किसी से प्रेम नहीं करते
(b) क्योंकि वे किसी से प्रेम करना नहीं चाहते
(c) क्योंकि उनके जीवन का कोई लक्ष्य नहीं
(d) क्योंकि उसके हृदय में असीम से मिलने की आकांक्षा नहीं
► (a) क्योंकि वे किसी से प्रेम नहीं करते

8. ‘सौरभ फैला विपुल धूप बन’ का आशय स्पष्ट कीजिए।
(a) ईश्वरीय आस्था की सुगंध सर्वत्र फैला दे
(b) धूप में सुगंधि फैला दे
(c) दिन को प्रकाशवान और सुगंधमय बना दे
(d) सारे वातावरण को फूलों की खुशबू से भर दे
► (a) ईश्वरीय आस्था की सुगंध सर्वत्र फैला दे

9. असंख्य का प्रयोग किसके लिए किया गया है?
(a) भावों के लिए
(b) लोगों के लिए
(c) दीयों के लिए
(d) तारों के लिए
► (d) तारों के लिए

10. “मृदुल मोम-सा घुल रहे मृदु तन”- का आशय स्पष्ट कीजिए।
(a) कवयित्री अपने शरीर को मोम के समान पिघलाने की बात कह रही हैं
(b) कवयित्री अपने शरीर को मोम के समान कोमल बनाना चाहती हैं
(c) कवयित्री अपने अहं को गलाकर प्रभु भक्ति में समर्पित होना चाहती हैं
(d) इनमें से कोई नहीं
► (c) कवयित्री अपने अहं को गलाकर प्रभु भक्ति में समर्पित होना चाहती हैं

11. कवयित्री दीपक को विहँस-विहँसकर जलने को क्यों कहती है?
(a) वह संसार के सुखों में लीन रहना चाहती है
(b) वह प्रभु की भक्ति करना चाहती है
(c) वह प्रभु को प्रसन्न करना चाहती है
(d) वह जीवन को खुशी से जीना चाहती है
► (c) वह प्रभु को प्रसन्न करना चाहती है

12. कवयित्री किसका प्रकाश फैलाना चाहती हैं?
(a) सूर्य का प्रकाश
(b) दीपक का प्रकाश
(c) बल्ब का प्रकाश
(d) आध्यात्मिक प्रकाश
► (d) आध्यात्मिक प्रकाश

13. ‘स्नेहहीन दीपक’ से क्या आशय है?
(a) प्रेमहीन बच्चे
(b) भक्ति शून्य प्राणी
(c) भूखे जन
(d) गरीब बच्चे
► (b) भक्ति शून्य प्राणी

14. ‘दे प्रकाश का सिंधु अपरिमित’ से क्या तात्पर्य है?
(a) कवयित्री कहती हैं मुझे प्रकाश का असीमित संसार दे दे
(b) कवयित्री कहती हैं मुझे सीमित प्रकाश प्रदान करो
(c) आध्यात्मिक प्रकाश को अपार समुद्र के समान विस्तृत रूप से फैला दे
(d) चारों ओर रोशनी ही रोशनी कर दे ताकि सिंध दिखने लगे
► (c) आध्यात्मिक प्रकाश को अपार समुद्र के समान विस्तृत रूप से फैला दे

15. ‘जलमय सागर का हृदय जलने’ से क्या अभिप्राय है?
(a) भक्तों से ईर्ष्या करना
(b) प्रभु भक्ति में हीन रहना
(c) प्रभु भक्ति में लीन रहना
(d) भक्तों की समृद्धि देखकर ईर्ष्या करना
► (c) प्रभु भक्ति में लीन रहना

16. “सिहर-सिहर मेरे दीपक जल’ का क्या अर्थ है?
(a) भयभीत होकर जलना
(b) ठिठुरते हुए जलना
(c) विपरीत परिस्थितियों में थरथराकर जलना
(d) दूसरों को डराते हुए जलना
► (c) विपरीत परिस्थितियों में थरथराकर जलना

17. ‘सारे शीतल कोमल नूतन’ किसके लिए आया है?
(a) सभी कोमल फूल
(b) जल और नदी
(c) विश्व के सभी मोहक सुंदर तत्व
(d) पेड़-पौधे, पशु-पक्षी
► (c) विश्व के सभी मोहक सुंदर तत्व

18. शलभ का सामान्य स्वभाव है
(a) दीपक को जलाना
(b) दीपक पर मर मिटना
(c) दीपक को बुझाना
(d) दीपक के पास रहना
► (b) दीपक पर मर मिटना

19. कवयित्री दीपक को विहँस-विहँस कर जलने को क्यों कहती हैं?
(a) वह प्रभु को खुश करना चाहती हैं
(b) वह जीवन खुशी से जीना चाहती हैं
(c) वह भक्ति में आनंद पाना चाहती हैं
(d) वह संसार के दुखों में नहीं जीना चाहती
► (c) वह भक्ति में आनंद पाना चाहती हैं

20. जलमय सागर का डर क्यों है?
(a) वे संसार के कष्टों से पीड़ित हैं
(b) भक्तों से ईर्ष्या करते हैं
(c) वे भक्तों से दुखी हैं
(d) भक्तों की समदधि नहीं चाहते
► (a) वे संसार के कष्टों से पीड़ित हैं

Share this:

Leave a Reply

Your email address will not be published.